हिंदी संस्करण
समाचार

'ग्लेशियर पर खून' थ्योरी को सुलझाने में लगे वैज्ञानिक

मिले कुछ चौंकानेवाले कारण

person access_timeJun 09, 2021 chat_bubble_outline0

एजेंसी। फ्रांस में सफेद ग्लेशियरों पर खून जैसे लाल धब्बों ने सभी को हैरत में डाल दिया है। इसे लेकर तरह-तरह की बातें हो रही हैं। कोई लाल धब्बों को नरसंहार की निशानी बता रहा है, तो कोई इसे जीवों के कत्लेआम से जोड़ रहा है। हालांकि, वैज्ञानिकों ने ऐसी किसी भी आशंका से इनकार किया है। उनका कहना है कि इसे विज्ञान की भाषा में 'ग्लेशियर का खून' कहा जाता है और इसकी सच्चाई का पता लगाने के लिए एक प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया है।

लिव साइंस की रिपोर्ट के अनुसार, फ्रांस के Glacier Blood' की थ्योरी को सुलझाने में लगे वैज्ञानिक, जांच में सामने आए कुछ चौंकाने वाले कारण (French Alps) पहाड़ों पर जमा ग्लेशियरों की जांच के लिए एल्पएल्गा प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई है। इसके तहत 3,280 फीट से लेकर 9,842 फीट की ऊंचाई तक जमा ग्लेशियरों से निकलने वाले खून की जांच की जाएगी। अभी तक जिन ग्लेशियरों की जांच की गई है, उनके नतीजे हैरान करने वाले हैं। क्योंकि जिस वस्तु की वजह से ग्लेशियर पर लाल धब्बे बने हैं, वह आमतौर पर सागरों, नदियों और झीलों में होती है।  अचानक उसका पानी की गहराइयों से निकलकर जमा देने वाले ग्लेशियरों पर आना कई सवाल खड़े करता है।

एल्पएल्गा प्रोजेक्ट के कॉर्डिनेटर एरिक मर्शाल ने बताया कि यह खास प्रकार की माइक्रोएल्गी है। जो ग्लेशियर में पनप रही है। पानी में रहने वाली यह एल्गी पहाड़ों के सर्द मौसम से जब रिएक्ट करती है तो यह लाल रंग छोड़ती है, जिसकी वजह से कई किलोमीटर तक ग्लेशियर लाल दिखने लगता है। उन्होंने कहा कि क्योंकि ये माइक्रोएल्गी पर्यावरण परिवर्तन और प्रदूषण को बर्दाश्त नहीं कर पाती। नतीजतन इसके शरीर में रिएक्शन होता है और बर्फ लाल रंग होने लगती है।

हवा के साथ Glacier पर पहुंच रहे एरिक ने बताया कि आमतौर पर एल्गी सागरों, नदियों और झीलों में मिलती हैं, लेकिन अब माइक्रोएल्गी बर्फ और हवा के कणों के साथ उड़कर ग्लेशियरों तक जा पहुंचे हैं। कुछ तो काफी ज्यादा ऊंचाई वाले स्थानों तक पहुंच गए हैं। जब हमारी टीम फ्रेंच एल्प्स के ग्लेशियर पर पहुंची तो वहां का नजारा पूरा लाल हुआ पड़ा था. ये माइक्रोएल्गी बर्फ के छोटे कणों के बीच मौजूद पानी में पनप रही थी। उन पर पर्यावरण परिवर्तन और प्रदूषण का असर साफ नजर आ रहा था।

कमेन्ट

Loading comments...