हिंदी संस्करण
समाचार

इंडक्शन चूल्हे पर खाना बनानेवालों को विद्युत् शुल्क में 20 प्रतिशत की छूट

person access_timeMar 26, 2020 chat_bubble_outline0

काठमांडू। लॉकडाउन के समय विद्युतीय (इंडक्शन) चूल्हे पर खाना बनानेवालों को विद्युत् के शुल्क में 20 प्रतिशत की छूट देने के लिए ऊर्जा, जलस्रोत तथा सिचाई मंत्रालय ने विद्युत् प्राधिकरण को निर्देश दिया है।


इंडक्शन से खाना बनानेवाले ग्राहकों को 150 यूनिट तक के विद्युत् शुल्क में 20 प्रतिशत तक छूट की व्यवस्था की गई है। छूट की इस व्यवस्था का निर्देशन ऊर्जा मंत्री वर्षमान पुन ने विद्युत् प्राधिकरण के कार्यकारी निर्देशक कुलमन घिसिंग को टेलीफोन द्वारा किया था।

मंत्री पुन ने बताया कि विद्युत् शुल्क में कटौती किये जाने पर गैस का विकल्प मिल सकेगा। 'गैस को देश बहार से आयात करना पड़ता है जबकि विद्युत् हमारा अपना ही उत्पाद है। ऐसा करने से गैस के लिए खर्च किये जानेवाला पैसा देश में ही रह सकेगा जिससे व्यापार घाटा भी कम करने में मदद मिलेगी।


मंत्री पुन का कहना था कि इसके गैस की अपेक्षा सस्ते पड़ने के कारण भी लोगों को इसका प्रयोग करना चाहिए।


विद्युत् की आतंरिक खपत को बढ़ाने के लिए भी मंत्रालय द्वारा ऐसा निर्णय किये जाने की बात मंत्री पुन ने बताई।


उन्होंने ये भी विश्वास किया कि ये निर्णय शीघ्र ही कार्यान्वयन में आएगा। कोरोना वायरस के कारण देश के लॉकडाउन होने की वजह से विद्युत् खपत में भारी मात्रा में गिरावट आ रही है।


इससे पहले बुधवार कोरोना वायरस (कोभीड़ -19) संक्रमण रोकथाम और नियंत्रण उच्चस्तरीय समन्वय समिति की बैठक ने इंडक्शन चूल्हें के आयात में लगनेवाले आयात कर में छूट देने का निर्णय किया था। इससे पहले इंडक्शन चूल्हे के आयात पर 15 प्रतिशत आयात कर लगता था।

कमेन्ट

Loading comments...