हिंदी संस्करण
समाचार

इजलास में शम्भू थापा : श्रीमान लोगों का धैर्य तो विशाल है !!

प्रधानमंत्री तथा राष्ट्रपति अधैर्य

person access_timeJan 26, 2021 chat_bubble_outline0

काठमांडू। प्रतिनिधि सभा विघटन सम्बन्धी मुकदमे पर नेकपा के प्रमुख सचेतक देव गुरुंग की रिट पर आज भी सुनवाई हो रही है। रविवार इस रिट पर शुरू हुई सुनवाई आज मंगलवार भी चलेगी।  

सोमवार गुरुंग की और से वरिष्ठ अधिवक्ता शम्भू थापा द्वारा बहस की गई थी। संवैधानिक इजलास में शम्भू थापा ने राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी और प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के अधैर्य होने की टिप्पणी की थी। सोमवार की बहस में उन्हने कहा- 'प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति एक पल भी धैर्य धारण न कर सके।' परन्तु इजलाश में प्रधान न्यायाधीश के साथ ही 4-4 अन्य न्यायाधीशों द्वारा दिखाए गए धैर्य की थापा ने प्रशंसा की। थापा ने कहा- 'श्रीमान लोगों का धैर्य तो विशाल है।'

रविवार से शुक्रवार फिर निरंतर सुनवाई करके न्यायाधीशों द्वारा धारण किये गए धैर्य की प्रशंसा करने पर न्यायाधीश विश्वम्भर प्रसाद श्रेष्ठ ने हँसते हुए कहा- 'उपाय ही क्या है?'

शम्भू थापा ने 052 साल से गाली गलौज किये गए पूर्व माओवादी लड़ाकुओं को प्रधानमंत्री द्वारा अभी खींचे जाने को देखकर खुद को आश्चर्य होने की बात की। '052 साल से लगातार पूर्व लड़ाकुओं को गलियां दी' थापा ने कहा और अभी आकर खोज खोज कर उन्हें खींच रहे है।'

प्रधान न्यायाधीश जबरा और अधिवक्ता थापा सहपाठी हैं। अन्य अधिवक्ताओं के लिए प्रधान न्यायाधीश द्वारा समय निश्चित किया जाता है परन्तु थापा से जबरा पूछा करते हैं- 'अब आपको कितना समय लगेगा?'

थापा द्वारा बहस को निरंतरता दिए जाने की बात कहे जाने पर पीठ द्वारा उन्हें मंगलवार का भी समय दिया गया है। सोमवार की इजलास में उन्होंने कहा- 'संभवतः इस मुकदमें में रुपये नहीं आएगा अधिक क्यों बोला जाय परन्तु मंगलवार इसके समाप्त करूँगा।'  

कमेन्ट

Loading comments...