हिंदी संस्करण
समाचार

अमेरिका की नई फर्स्‍ट लेडी जिल बाइडन बनाएगी यह इतिहास

person access_timeNov 17, 2020 chat_bubble_outline0

वाशिंगटन-एजेंसी। अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में रिकॉर्ड वोट हासिल कर जो बाइडन अमेरिका के 46 वें राष्‍ट्रपति बनने जा रहे हैं। डेमोक्रेटिक उम्‍मीदवार के रूप में नाम घोषित होने के बाद चुनावी रैली से लेकर चुनाव परिणामों तक जो बाइडन की पत्‍नी जिल बाइडन हर क्षण उनके साथ खड़ी रहीं।
जो बाइडन की पत्‍नी जिल बाइडन शिक्षक हैं। अमेरिका के सभी लोगो में यह कौतुहलता है कि बाइडन की पत्‍नी अब क्‍या करेंगी ? क्‍या वह अपने पति को सहयोग करने के लिए शिक्षक की नौकरी छोडेंगी ?
इस चर्चा ने जोर तब पकड़ा जब नव निर्वाचित अमेरिकी उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के पति ने उन्हें सहयोग करने के लिए अपनी नौकरी से इस्‍तीफा दे दिया।

अमेरिका के होने वाले वाले राष्‍ट्रपति 78 वर्षीय जो बाइडन की 69 वर्षीय पत्‍नी जिल बाइडन पेशे से एक शिक्षक हैं। जिल की योजना है कि वह व्‍हाइट हाउस की प्रथम महिला की जिम्‍मेदारी निभाते हुए शिक्षक की भूमिका भी जारी रखेगी। अगर वह अपने फैसले पर कायम रही तो जिल बाइडन ऐसा करने वाली अमेरिका की पहली 'प्रथम महिला' होंगी जो व्‍हाइट हाउस के बाहर काम करके वेतन कमाएगी ।



अमेरिका की 'फर्स्‍ट लेडी'  जिल के नाम यह रिकॉर्ड भी बनेगा। 231 वर्षो के अमेरिकी इतिहास में पहली बार जिल बाइडन अपने पेशे को जारी रख इतिहास बनाने जा रही हैं। अमेरिकी इतिहासकार कैथरीन जेल्लिसन ने कहा कि डॉ जिल बाइडन पहली ऐसी महिला होंगी जो व्‍हाइट हाउस से बाहर वेतन के साथ नौकरी करेंगी। इतना ही नहीं वह प्रथम ऐसी 'फर्स्ट लेडी'  होंगी, जिनके पास डॉक्‍टर की डिग्री है।

जिल नॉर्दन वर्जिनिया कम्‍युनिटी कॉलेज में अंग्रेजी की प्रोफेसर हैं। चुनाव कैंपेनिंग के दौरान जिल ने एक न्‍यूज चैनल से बात करते हुए कहा था कि अगर वह अमेरिका की प्रथम महिला बनती हैं तो भी वह अपने पेशे से जुड़ी रहेंगी। वह अपना काम जारी रखेंगी। उन्‍होंने कहा था कि अगर हम व्‍हाइट हाउस में जाते हैं तो मैं शिक्षक के तौर पर अपनी सेवाएं देना जारी रखूंगी। जिल ने कहा कि यह महत्‍वपूर्ण है।

उन्‍होंने कहा था मैं चाहती हूं कि लोग शिक्षक का सम्‍मान करें। उनके योगदान को जानें और इस पेशे को आगे बढ़ाएं। जो बाइडन जब उप राष्‍ट्रपति थे, तब जिल एक सामुदायिक कॉलेज में शिक्ष‍िका थीं। जिल हमेशा शिक्षा के महत्‍व पर जोर देती रहीं हैं। जिल ने कहा अगर वह प्रथम महिला बनती हैं तो वह सामुदायिक कॉलेजों में निशुल्क ट्यूशन को दिए जाने का समर्थन करेंगी। साथ ही कैंसर के शोध के लिए भी वह सहयोग देंगी और सैनिकों के परिवारों की मदद करेंगी। जिल ने आजीवन एक शिक्षिका बने रहने का फैसला किया है।

कमेन्ट

Loading comments...