हिंदी संस्करण

पतंजलि को 10 लाख जुर्माने के साथ कोरोना सम्बन्धी औषधि बेच न पाने का आदेश

person access_timeAug 07, 2020 chat_bubble_outline0

भारत। मद्रास की उच्च अदालत ने रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद को 'कोरोनिल ट्रेडमार्क' प्रयोग करके औषधि उत्पादन और बिक्री वितरण न करने का आदेश दिया है।  

गुरुवार को अदालत द्वारा कोरोना वायरस के उपचार का नाम लेकर औषधि बेच न सकने का आदेश दिया है। नोबेल कोरोना वायरस ठीक होगा कहते हुए औषधि को बेचे जाने के कारण पतंजलि पर 10 लाख रूपया जुर्माना किया गया है।  

चेन्नई में स्थित एक कंपनी ने 'कोरोनिल' ट्रेडमार्क सं 1993 से प्रयोग करते आ रहे होने का दावा करते हुए अदालत में केस फायल किया था।  

उस कंपनी द्वारा प्रयोग किया गया ट्रेडमार्क 'कोरोनिल- 92 बी' एसिड सम्बन्धी बड़ी बड़ी मशीनों के साफ करने, उद्योग में प्रयोग किये जानेवाला रसायन होने की जानकारी भी दी है।  

कंपनी ने सं 2027 तक इसका स्वामित्व हमारे अधीन होने की भी जानकारी दी है। परन्तु पिछले समय में पतंजलि द्वारा इस ट्रेड मार्क का प्रयोग करके 'कोरोना की औषधि कहते हुए' कोरोनिल टेबलेट' नाम में प्रयोग करते आ रहा था।

कमेन्ट

Loading comments...