हिंदी संस्करण

जादुई पेड़ - जिसे काटने पर निकलता हैं खून सा..

person access_timeJun 25, 2020 chat_bubble_outline0

एजेंसी। हमने बचपन से ही सुना हैं, जाना हैं, माना है कि प्रकृति की हर सचेतन चीज से जान होती है। हमारे आस-पास के पेड़-पौधे घास-झाड़ियां सभी चेतन हैं। सभी सांस लेते हैं, सभी बढ़ते हैं, फलते हैं, फूलते हैं। उन्हें भी हमारी ही तरह तकलीफ भी होती हैं। तभी तो बचपन में सिखाया गया था कि रात्रि के समय पेड़ पौधोंको नहीं छूना चाहिए वे भी रात्रि को विश्राम करते हैं। ये बातें तो दादी नानी के द्वारा बिलकुल घरेलू ढंग से सिखाई गई बातें थीं परन्तु इन्हीं घरेलू बातों पर ही तो जगदीशचंद बसु ने प्रयोग करके सिद्ध कर दिया था की पेड़ पौधे साँस तो लेते ही हैं, भोजन तो लेते ही हैं, उन पर संगीत का भी असर होता हैं लेकिन लोग उन्हें काटते समय ये बात भूल जाते हैं।

 

अब जरा सोचिए कि अगर आपने कोई पेड़ काटा और उससे इंसानों की तरह की लाल रंग का खून निकलने लगे तो? यकीनन आप ऐसा नजारा देखकर डर जाएंगे, क्योंकि इसकी उम्मीद आपने कभी ही नहीं होगी। लेकिन ऐसा भी पेड़ होता हैं जिसे काटने पर इंसानों की तरह का ही खून (लाल रंग का रस) निकलता है। ज्यादातर लोग तो इस पेड़ के बारे में जानते भी नहीं हैं, लेकिन जो जानते हैं वो इसे 'जादुई' मानते हैं। 

दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले इस बेहद ही खास और अनोखे पेड़ को लोग 'ब्लडवुड ट्री' के नाम से जानते हैं। इसे और भी कई नामों से जाना जाता है, जैसे कि- किआट मुकवा, मुनिंगा। इसका वैज्ञानिक नाम 'सेरोकारपस एंगोलेनसिस' है। यह अनोखा पेड़ मोजाम्बिक, नामीबिया, तंजानिया और जिम्बाब्वे जैसे देशों में भी पाया जाता है। 

 

ऐसा नहीं है कि 'ब्लडवुड ट्री' को सिर्फ काटने पर ही खून निकलता है। इसकी अगर डाली टूट भी जाए तो भी उस जगह से खून निकलने लगता है। असल में यह गहरे लाल रंग का एक तरल पदार्थ होता है, जो देखने में बिल्कुल खून जैसा होता है। 

इस अनोखे पेड़ की लंबाई 12 से 18 मीटर तक होती है। पेड़ के ऊपर पत्तों और टहनियों का आकार इस तरीके से बना होता है जैसे वहां कोई छतरी लगी हो। इसके पत्ते काफी घने होते हैं और इसपर पीले रंग के फूल खिलते हैं। इसकी लकड़ी से काफी महंगे-महंगे फर्नीचर बनाए जाते हैं। इसकी लकड़ी का खासियत ये है कि वो आसानी से मुड़ जाती है और ज्यादा सिकुड़ती भी नहीं।.

लोग इसे जादुई पेड़ भी मानते हैं, क्योंकि इसका इस्तेमाल दवाई के रूप में भी किया जाता है। यह इंसानों के खून संबंधी बीमारियों को ठीक कर देता है। इसमें दाद से लेकर आंखों की परेशानी, पेट की समस्या, मलेरिया और गंभीर चोटों को भी ठीक करने की ताकत है।

कमेन्ट

Loading comments...